कांग्रेस ने पहली लिस्ट में 33 उम्मीदवारों के नामों का किया ऐलान

पांच मंत्रियों और 29 वर्तमान विधायकों पर फिर खेला दांव

लिस्ट में नौ महिलाएं और एक अल्पसंख्यक उम्मीदवार

जयपुर. राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने महामंथन के बाद आखिरकार अपने उम्मीदवारों की पहली लिस्ट शनिवार को जारी कर दी है। केंद्रीय चुनाव समिति बैठक में करीब सौ नामों पर सहमति बनी थी लेकिन पहली लिस्ट में चुनाव जीतने वाले 33 नामों पर अंतिम मुहर लगाई गई। इस लिस्ट में मुख्यमंत्री अशेक गहलोत, पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट, प्रदेशाध्यक्ष गोविद डोटासरा व विधानसभा अध्यक्ष सी पी जोशी समेत दिग्गज नेताओं सहित 5 मंत्रियों और 29 वर्तमान विधायकों के नाम हैं। पहली इस लिस्ट में नी महिलाओं और युवा विधायकों को चुनाव मैदान में उतारा गया है। गहलोत सरदारपुरा (जोधपुर) और पायलट टोक विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगे।

कांग्रेस उम्मीदवारों की पहली 33 उम्मीदवारों की लिस्ट में वर्तमान विधायकों में से केवल 29 विधायकों के नामों को एलान किया गया है। इसमें दिग्गज नेता मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और लोकसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ऐसे नेता हैं, जिनकी उम्र 70 साल से अधिक है। उनको छोड़कर सर्वाधिक कम उम्र और युवा विधायकों पर फिर दांव खेला गया है। वहीं तीस मंत्रियों में केवल पांच मंत्रियों महेंद्रजीत सिंह मालवीय, ममता भूपेश, भंवर सिंह भाटी, टीकाराम जूली, अशोक चांदना को अभी टिकट दिया गया है। सूत्रों की माने तो कुछ विवादित मंत्रियों और सर्वे के आधार पर कुछ मंत्रियों व विधायकों को होल्ड पर रखा गया है। पहली लिस्ट में बड़ी संख्या में विधायकों व मंत्रियों के टिकट का एलान करने से होल्ड वाले कुछ मंत्रियों व विधायकों के टिकट काटने की आशंका में विरोध के स्वर मुखर हो सकते है। इस वजह से अभी कांग्रेस ने भाजपा के पहली लिस्ट को लेकर विरोध को देखते हुए सेफ गेम खेलते हुए महज 33 सीट पर उम्मीदवारों के नामों का एलान किया है। माना जा रहा है यह तमाम सीट पर कांग्रेस अपनी जीत तय मान रही है। इस वजह से चुनाव जीतने वाले उम्मीदवारों की एक छोटी लिस्ट जारी की गई है। होल्ड किए मंत्रियों व
विधायकों को टिकट देने पर मंथन चल रहा है। माना जा रहा है कि शांति धारीवाल व महेश जोशी सहित कुछ मंत्रियों व विधायकों के नाम दूसरी लिस्ट में जारी हो सकते है। सूत्र की माने तो कांग्रेस धारीवाल व जोशी की चुनाव जीत तय मान रही है इसलिए उनके टिकट नहीं काट सकती है। हालांकि कुछ मंत्रियों व विधायकों के चुनाव नहीं जीतने की आशंका की वजह से टिकट काटे जा सकते है। हालांकि कांग्रेस ने पहली लिस्ट में तीन हारे हुए उम्मीदवारों को फिर से टिकट दिया है। कुशलगढ़ से बागी चुनाव लड़कर निर्दलीय चुनाव जीती रमिला खड़िया को टिकट दिया है। रमिला के पति हुतिंग खड़िया पहले कांग्रेस उम्मीदवार रहे थे। मालवीय नगर से अर्चना शर्मा, सांगानेर से पुष्पेंद्र भारद्वाज और मांडलगढ़ से विवेक धाकड़ पिछला चुनाव हार गए थे, इन्हें फिर से मौका दिया है। अलवर के मुंडावर से पिछला चुनाव बसपा से लड़े ललित कुमार यादव को टिकट दिया है। यह सीट कांग्रेस ने पिछली बार गठबंधन के तहत एलजेपी को दी थी। इस सीट पर बीजेपी जीती थी और ललित यादव बसपा से दूसरे नंबर पर रहे थे। इस लिस्ट में दस महिलाओं पर विश्वास जताया गया तो अल्पसंख्यक में केवल अबरार अहमद के नाम का एलान किया गया है।

उपचुनाव जीतने वाले तीन विधायकों पर फिर दांव

कांग्रेस ने पहली लिस्ट में उप चुनाव में जीते हुए तीनों विधायकों को टिकट दिया गया है। इसमें मंडावा से रौटा चौधरी, सुजानगढ़ से मनोज मेघवाल और वल्लभनगर से प्रीति गजेंद्र सिंह शक्तावत पर फिर भरोसा जताया गया है। आज जारी लिस्ट में गहलोत खेमे के 28 नेताओं और सचिन पायलट खेमे से 5 टिकट दिए गए हैं। खुद सचिन पायलट के साथ विराटनगर से इंद्राज सिंह गुर्जर, लाडनूं से मुकेश भाकर, परबतसर से रामनिवास गावड़िया को टिकट मिला है। पूर्व विधायक विवेक धाकड़ को मांडलगढ़ से टिकट दिया गया है।

 

इन विधायकों को फिर मिला मौका
अमित चाचाण, भंवर सिंह भाटी, कृष्णा पूनिया, सुजानगढ़- मनोज मेघवाल, रीता चौधरी, गोविंद सिंह डोटासरा, इंद्राज सिंह गुर्जर, टीकाराम जूली, ममता भूपेष, दानिश अबरार, सचिन पायलट, मुकेश भाकर, चेतन सिंह चौधरी, मंजू देवी, विजयपाल मिर्धा, रामनिवास गवारिया, दिव्या मदेरणा, अशोक गहलोत, मनीषा पनवार, महेंद्र विश्नोई, हरीश चौधरी, प्रीति गजेंद्र सिंह शक्तावत, गणेश गोधरा, महेंद्र जीत सिंह मालवीया, रमिला खड़िया, रामलाल मीना, भीम सुदर्शन सिंह रावत, सीपी जोशी, अशोक चांदना का नाम शामिल है।