आठवीं तक के 67 लाख बच्चों को सिखाया जाएगा साइबर सेफ्टी का पाठ

आठवीं तक के 67 लाख बच्चों को सिखाया जाएगा साइबर सेफ्टी का पाठ
 

साइबर सेफ्टी के तहत बच्चों को इंटरनेट उपयोग के बारे में बताया जाएगा। इसके लिए दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। बच्चों को बताया जाएगा कि इंटरनेट पर अपने पासवर्ड कैसे इस्तेमाल किए जाएं। इसके अलावा इंटरनेट पर ऑनलाइन गेम खेलते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए। संदिग्ध गतिविधि दिखने पर अभिभावक और शिक्षक को सूचना करनी चाहिए। इंटरनेट पर स्कूल, नाम, पता और अन्य गोपनीय जानकारियोें का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। सोशल मीडिया पर विनम्र भाषा का उपयोग करना चाहिए।

जयपुर. कक्षा एक से आठवीं तक के 67 लाख बच्चों को कम्प्यूटर शिक्षा पढ़ाई जाएगी। शिक्षा विभाग ने इसका सिलेबस तैयार कर जारी कर दिया है। विभाग ने सिलेबस तैयार करने के लिए राज्य परियोजना निदेशक की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई थी। इस कमेटी में एससीइआरटी के शैक्षिक अधिकारी, आरइआइ संस्थाओं के प्रतिनिधि तथा विषय विशेषज्ञ शामिल किए थे। कमेटी ने पिछले दिनों अपनी रिपोर्ट सौंपी थी। इसके आधार पर सिलेबस जारी किया गया है। बता दें कि बेसिक कम्प्यूटर अनुदेशकों और वरिष्ठ कम्प्यूटर अनुदेशकों की नियुक्ति की गई है। लेकिन उनका अभी तक जॉब प्रोफाइल जारी नहीं किया गया है। विभाग की ओर से जॉब प्रोफाइल तैयार किया जा रहा है। ये शिक्षक बच्चों को कम्प्यूटर शिक्षा का अध्ययन कराएंगे।

बाल वाटिकाओं को मिलेगा चाइल्ड फ्रेंडली फर्नीचर

महात्मा गांधी इंग्लिश मीडियम स्कूलों (एमजीजीएस) में प्री-प्राइमरी कक्षा के बच्चों के लिए बाल वाटिकाओं में चाइल्ड फ्रेंडली फर्नीचर उपलब्ध कराया जाएगा। शिक्षा विभाग इसकी तैयारी कर रहा है। वर्तमान में एक हजार से अधिक एमजीजीएस में प्री-प्राइमरी कक्षाएं चलाई जा रही हैं। बाल वाटिकाओं में नामांकन की स्थिति, टीचर्स के विशेष कैडर के गठन, प्रशिक्षित एनटीटी टीचर्स के पदस्थापन और सेवा आधारित कार्यों के तहत सफाई कर्मी, सहायक कर्मचारी, गार्ड और केयर टेकर भी लगाए जा रहे हैं।