गहलोत इस्तीफा देकर चुनाव मैदान में आएं, हो जाएं दो-दो हाथ: शाह

  • गहलोत इस्तीफा देकर चुनाव मैदान में आएं, हो जाएं दो-दो हाथ: शाह
Abp news 21 गंगापुरसिटी. सहकार किसान सम्मेलन में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ।Abp news 21 गंगापुरसिटी. सहकार किसान सम्मेलन में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ।

जयपुर गंगापुरसिटी ओर से गंगापुरसिटी में शनिवार को आयोजित किसान सहकार सम्मेलन में केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह ने लाल डायरी को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर जमकर निशाना साधा।
उन्होंने कहा कि डायरी का रंगलाल है, लेकिन उसके अंदर काले चिट्ठे छिपे हैं। अरबों-करोड़ों का भ्रष्टाचार का कच्चा चिठ्ठा लाल डायरी के अंदर है। मैं अशोक गहलोत को कहने आया हूं कि जरा भी शर्म बची है तो लाल डायरी मुद्दे पर इस्तीफा देकर चुनाव मैदान में आएं… और फिर हो जाए दो-दो हाथ शाह यहीं नहीं रुके, उन्होंने गहलोत पर कटाक्ष करते हुए लोगों से भी अपील कर दी- यदि आपके घर में कोई डायरी हो तो उसका रंग लाल मत रखना,वरना गहलोत नाराज हो जाएंगे। आजकल गहलोत लाल डायरी से बहुत डर रहे हैं।


आरोपः नारे लगाने वालों को गहलोत ने भेजा

शाह का संबोधन शुरू करते ही कुछ लोगों ने पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना (ईआरसीपी) को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और झण्डे लहरा दिए। इस पर शाह ने कहा- सीएम गहलोत ने इन्हें भेजा है। मैं पॉलिटिक्स नहीं करना चाहता था, लेकिन मुझे मजबूर कर दिया। कार्यक्रम के दौरान नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़, इफको चेयरमैन दिलीप छंगाणी आदि मौजूद रहे!


बिजली उत्पादन बढ़ाने की बजाय गहलोत का इंटरेस्ट खरीदने में

राजस्थान में बिजली संकट पर भी गृहमंत्री अमित शाह का निशाना रहा। उन्होंने कहा कि यहां पहुंचते ही एक किसान ने उन्हें बिजली आपूर्ति नहीं होने की शिकायत की। फिर पता चला कि मुख्यमंत्री गहलोत का यहां बिजली उत्पादन करने की बजाय बाहर से बिजली खरीद में इंटरेस्ट है।


उम्मीद… शाह

अमित शाह ने किसानों से कहा कि पहले की तरह अब 2024 में भी झोली भरनी है। लेकिन इससे पहले विधानसभा चुनाव में राज्य में भी तख्ता पलट करना है। उन्होंने केन्द्र में तत्कालीन कांग्रेस सरकार और मौजूदा मोदी सरकार के बीच किसान हित की योजनाओं की तुलनात्मक स्थिति भी बताई।


सांसदों से कहा-खड़े होकर राम-राम कीजिए

केन्द्रीय गृह मंत्री ने टोंक-सवाईमाधोपुर सांसद सुखबीर सिंह जौनपुरिया, धौलपुर- करौली सांसद मनोज राजोरिया, दौसा सांसद जसकौर मीना और राज्यसभा सदस्य किरोड़ी लाल मीणा का परिचय कराते हुए कहा-आप खड़े होकर लोगों को राम-राम कीजिए।


सहकारिता आंदोलन से किसान आर्थिक रूप से मजबूतः बिरला

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि सहकारिता आंदोलन के माध्यम से देश का किसान, मजदूर, महिलाएं वनौजवान सामाजिक व आर्थिक रूप से मजबूत हुआ है। एक छत की नीचे सभी सुविधाएं दी जा रही है। देश में गुजरात ऐसा अकेला राज्य है, जहां पर शून्य ब्याज दर पर बिना लिमिट ऋण दिया जा रहा है। ऐसा राज लाओ, जिससे राजस्थान के किसान भी सामाजिक व आर्थिक रूप से मजबूत बन सकें। सहकारिता आंदोलन के लिए उन्होंने पीएम तथा सहकारिता मंत्री को धन्यवाद भी दिया, जिनकी वजह से गांव का किसान समृद्ध हो रहा है। बिरला ने बताया कि सहकारी आंदोलन का लक्ष्य केवल किसानों का ही नहीं बल्कि पूरे समाज का विकास है। विकास भी है। उन्होंने कहा कि सहकारी आंदोलन पीएम मोदी के ‘आत्मनिर्भर’ भारत का सच्चा रूप है।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष नहीं कर पाए मुलाकात

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सीपी जोशी भी तड़के गंगापुरसिटी पहुंचे, लेकिन तबीयत खराब होने के कारण वे गृह मंत्री शाह से मुलाकात नहीं कर पाए।वे एक होटल में ही आराम करते रहे। शाम को सवाईमाधोपुर रवाना हो गए।



 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *