सैन्य ताकत : चीन से लगती सीमा पर भारत की चौकस नजर

पाकिस्तान और चीन के सैन्य गठजोड़ से मुकाबला करने में सक्षम: वायुसेना प्रमुख…

नई दिल्ली. वायुसेना प्रमुख वीआर चौधरी ने मंगलवार को कहा कि पाकिस्तान और चीन के बीच सैन्य गठजोड़ का मजबूती से मुकाबला करने को पूरी तरह तैयार है। 91वें वायुसेना स्थापना दिवस से पहले संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा कि हमारे क्षेत्र में अनिश्चित भू राजनैतिक स्थिति को देखते हुए मजबूत तथा विश्वसनीय सेना समय की जरूरत है। एलएसी को लेकर उन्होंने कहा कि हम सीमा पर अत्यंत कड़ी नजर रख रहे हैं।

मिग-21 की जगह आएंगे तेजस लड़ाकू विमान

एयर चीफ मार्शल चौधरी ने कहा कि वायुसेना के लड़ाकू विमान बेड़े से सभी मिग-21 विमान साल 2025 तक विदा कर दिए जाएंगे। इन विमानों की जगह स्वदेशी हल्का लड़ाकू विमान तेजस लेगा। वायुसेना तेजस मार्क-1ए के 83 विमान खरीदने का दो साल पहले ही करार कर चुकी है, जबकि ऐसे ही 97 विमान और खरीदने की योजना है।

 

हिन्द-प्रशांत क्षेत्र : चुनौती के साथ अवसर भी

वायुसेना प्रमुख ने कहा कि हमारे क्षेत्र में अस्थिर तथा अनिश्चित भू-राजनीतिक स्थिति के चलते मजबूत सेना बहुत जरूरी है। हिन्द प्रशांत क्षेत्र दुनिया का नया आर्थिक और रणनीतिक केन्द्र बन गया है, जो हमारे लिए चुनौती के साथ साथ अवसर भी लेकर आया है। वायु सेना इन चुनौतियां से निपटने में पूरी तरह सक्षम है।